7 मई को विदेश से आने वालों को गुरुग्राम, फरीदाबाद में हरियाणा पर्यटन केंद्रों में किया जाएगा क्वारैंटाइन

  • 14 दिन तक यहीं रहेंगे और उनके स्वास्थ्य की जांच होगी
  • दूसरे राज्यों से आने वालों को बॉर्डर पर रोक कर की जाएगी जांच

चंडीगढ़. विदेशों से लाए जाने वाले विद्यार्थियों व अन्य लोगों की पहली फ्लाइट सात मई को नई दिल्ली पहुंचने की उम्मीद है। इनमें से जो व्यक्ति हरियाणा के वासी हैं उनको गुरूग्राम व फरीदाबाद में हरियाणा पर्यटन केंद्रों व अन्य चिन्हित स्थानों पर 14 दिन के लिए क्वारैंटाइन किया जाएगा जहां पर उनके स्वास्थ्य की जांच की जाएगी।

दूसरे राज्यों से आने वाले लोगों की भी प्रदेश के बॉर्डर बहादुरगढ़, कुंडली, फरीदाबाद व गुड़गांव में प्रशासन द्वारा निर्धारित स्थान पर रोक कर जांच की जाएगी और उनका उस राज्य का स्वास्थ्य प्रमाण-पत्र भी चेक किया जाएगा, जहां से वे लोग आए हैं। यह आदेश मुख्य सचिव केशनी आनंद अरोड़ा ने जारी किए हैं।

उन्होंने सभी जिलों के डीसी व कोविड-19 के जिला इंचार्जों से वीडियो कान्फ्रेंसिंग के माध्यम से विदेशों से आने वाले विद्यार्थियों, दूसरे राज्यों से हरियाणा में आने वाले प्रदेश के लोगों और माइगेरंट लेबर को ट्रेन के माध्यम से उनके राज्य में भेजे जाने के लिए की गई तैयारियों की समीक्षा की। शहरी स्थानीय निकाय विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव एसएन राय ने कहा कि उपायुक्त स्थानीय व्यापारियों एवं दुकानदारों के प्रतिनिधियों से मिलकर दुकान खोलने की इस प्रकार की योजना तैयार करें कि बाजारों व दुकानों में भीड़ न बढ़े। जो भी दुकानदार सोशल डिस्टेंसिंग, मास्क आदि नियमों का पालन नहीं करता पाया जाएगा उसको शहरी स्थानीय विभाग की टीम जुर्माना करेगी व संबंधित दुकान को बंद भी करवा सकती है।

दूसरे राज्यों में जाने वाले श्रमिकों की होगी स्क्रीनिंग
मुख्य सचिव ने अधिकारियों को यह भी निर्देश दिए कि जो माइग्रेंट लेबर ट्रेन के माध्यम से बिहार व अन्य दूर-दराज के प्रदेशों में भेजे जाएंगे उनकी भी स्क्रीनिंग की जाए और उसके बाद उनको स्वास्थ्य प्रमाण-पत्र दिया जाए। उन्होंने अधिकारियों को कोविड से संबंधित डाटा नियमित तौर पर अपडेट करने, कोरोना पोजिटिव व्यक्ति के संपर्क में आए व्यक्तियों की सूक्ष्मता से टे्रसिंग करने, वर्तमान में शैल्टर-कैंपों में ठहरे हुए माइग्रेंट लेबर की डिटेल भेजने के भी निर्देश दिए।