संकट की घड़ी में 832 धरतीपुत्रों ने किया 20.63 लाख रुपए का दान

  • संकट की घड़ी में 832 धरतीपुत्रों ने किया 20.63 लाख रुपए का दान
  • अब तक प्रदेशभर में 48.04 लाख टन से अधिक गेहूं की आवक

पानीपत. (सुशील भार्गव) प्रदेश के अन्नदाताओं ने कोविड-19 की महामारी से निपटने के लिए सरकार का साथ दिया है। अब तक अनाज मंडियों में गेहूं व सरसों लेकर आ रहे 832 किसानों ने 20.63 लाख रुपए कोरोना रिलीफ फंड में दिए हैं। यह राशि सरसों व गेहूं लेकर आए किसानों ने दान की है, ताकि जरूरतमंदों को समय पर मदद मिल सके।
सीएम मनोहर लाल ने किसानों का आहवान किया था कि वे भी कोरोना रिलीफ फंड में कोई योगदान करें। ऐसे में किसानों ने योगदान किया है। अभी गेहूं व सरसों की खरीद चल रही है। अब तक अनाज मंडियों में 5.58 लाख किसान गेहूं बेच चुके हैं, जबकि 1.56 लाख किसानों ने सरसों बेची है। 15 मई तक संभावना जताई जा रही है कि अधिकांश अनाज की खरीद हो जाएगी। फिलहाल करीब 65 से 70 फीसदी अनाज मंडियों में खरीदा जा चुका है। हालांकि अबकी बार सरकार ने 95 लाख टन गेहूं खरीद के इंतजाम किए थे, लेकिन संभावना जताई जा रही है कि करीब 75 लाख टन गेहूं ही मंडियों में पहुंच सकता है। जबकि वर्ष 2019 में प्रदेश की अनाज मंडियों में करीब 93 लाख टन गेहूं की आवक हुई थी। जो अब तक का रिकाॅर्ड है।

2.14 लाख टन हुई गेहूं खरीद
कृषि एवं किसान कल्याण और सहकारिता विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव संजीव कौशल ने बताया कि आज हरियाणा के खरीद केंद्रों में 27499 किसानों से 2.14 लाख मीट्रिक टन गेहूं खरीदा गया। राज्य में पिछले 12 दिनों में 558185 किसानों से 48.04 लाख मीट्रिक टन गेहूँ की खरीद की जा चुकी है। राज्य के 163 खरीद केंद्रों में 4058 किसानों से 10543.24 मीट्रिक टन सरसों की खरीद की गई और अब तक 156569 किसानों से कुल 4.25 लाख मीट्रिक टन सरसों की खरीद की गई है।

4.25 लाख टन सरसों की हुई खरीद
प्रदेश में अब तक करीब 4.20 लाख टन सरसों की खरीद हो चुकी है। अब तक भिवानी में 88 हजार, चरखी दादरी में 42 हजार, गुड़गांव में 17 हजार, हिसार में 25 हजार, झज्जर में 26 हजार, महंेद्रगढ़ में 60 हजार, रेवाड़ी में 61 हजार, सिरसा में 47 हजार टन सरसों की खरीद हो चुकी है।
अब प्रदेश में 832 किसानों ने फसल बेचने के दौरान कोरोना रिलीफ फंड में 20.63 लाख रुपए का योगदान दिया है। प्रदेश की अनाज मंडियों व खरीद केंद्रों में अब तक 48.05 लाख टन गेहूं खरीदी जा चुकी है। -डॉ. जे गणेशन, सीए, हरियाणा राज्य कृषि विपणन बोर्ड।