शहर की मंडी बंद, रादौर-साढौरा का सहारा, विक्रेता वहां से लाकर बेच रहे

  • रेहड़ी में आलू प्याज लिए ही घूम रहे, राजस्थान, दिल्ली, नासिक से आती है मंडी मंे सब्जी, इन दिनों प्लेज की आ रही सब्जी

यमुनानगर. शहर की सब्जी मंडी के आढ़ती को कोरोना मिलने के बाद जिला प्रशासन की ओर से सब्जी मंडी बंद की गई है। सात मई की शाम को पता लगेगा कि मंडी कब खुलेगी। मंडी बंद होने से यहां कोई सब्जी नहीं मिल रही। राजस्थान, दिल्ली, नासिक व अन्य स्थानों से आने वाली सब्जियां नहीं पहुंच रहीं। कुछ दुकानदार साढौरा व रादौर सब्जी मंडी से सब्जी लाकर शहर में बेच रहे हैं। वहीं गलियों में दिनभर घूमने वाली सब्जी की रेहड़ियों की संख्या 10 फीसदी ही रह गई है। इन पर भी बहुत कम सब्जी है। अधिकांश रेहड़ियों पर सिर्फ आलू-प्याज ही हैं। इस समय केवल स्थानीय सब्जी बिक रही है। वहीं मंडी बंद होने से शहरी एरिया में नाममात्र सब्जी आ रही है, जबकि ग्रामीण क्षेत्र की दुकानों पर दिक्कत न के बराबर है।
हम कैसे जाएं इतनी दूर, किराया भी नहीं होगा पूरा : यमुनानगर व जगाधरी की दोनों सब्जी मंडी बंद होने से कुछ दुकानदार रादौर से सब्जी ला रहे हैं जबकि रेहड़ी पर बेचने वाले प्रकाश, जयपाल व सन्नी का कहना है कि शहर की अगर मंडी खुले तो वे सब्जी लाकर बेच सकते हैं लेकिन रादौर या साढौरा जाकर नहीं ला सकते क्योंकि ऐसा करने से रेट बढ़ जाएगा। फिर भी वे लोग अपना किराया भी पूरा नहीं कर पाएंगे, लागत को दूर की बात है। इस समय बहुत से लोग सब्जी व्यवसाय से जुड़ चुके हैं। कारण कि इसे जरूरी सेवा मंे रखा गया है। लॉकडाउन में लोग सब्जी बेचकर गुजर बसर कर रहे हैं।

इसलिए नहीं बढ़े दाम : सब्जी विक्रेता मनोज कुमार, अनिल व विक्रम का कहना है कि लौकी, तोरी, बैंगन, टमाटर स्थानीय किसान लेकर पहुंच रहे हैं। जब से मंडी बंद हुई है, ये लोग सीधे इनके पास लाकर सब्जी बेच रहे हैं। उपलब्धता पूरी है इसलिए इनके दाम में बढ़ोतरी नहीं हुई है। फल की दिक्कत आ रही है। पहले से खरीद कर लाए गए फल ही बेच रहे हैं। वे लोग सुरक्षा मानकों का पूरा ख्याल रख रहे हैं। सेनिटाइजर साथ रखते हैं।
ये दिया था प्रशासन को सुझाव : सब्जी मंडी एसोसिएशन के प्रधान सुरेश कुमार ने बताया कि इन दिनों मंडी बंद है इसलिए अधिकतर विक्रेता रादौर व साढौरा से सब्जी ला रहे हैं। प्लेज की सब्जी बिक रही है। सब्जी की फिलहाल कमी नहीं है।
मंडी का यह हो सकता है अस्थाई विकल्प
प्रशासन ने एहतियात के तौर पर सब्जी मंडी को बंद कराया है। जन मानस की सुरक्षा को देखते हुए यह जरूरी भी है, लेकिन लोगों की जरूरत का भी ध्यान रखा जाना चाहिए। सब्जी मंडी के आढ़तियों का कहना है कि जब तक मंडी बंद है तब तक प्रशासन चाहे तो तेजली मैदान में अस्थाई मंडी सुबह 10 बजे तक लगाई जा सकती है जिसमें जिले के किसान सीधे आम लोगों को सब्जी बेचें। इससे किसान व शहर के लोग दोनों को फायदा होगा। इसके अलावा दशहरा ग्राउंड में भी इसी तरह की व्यवस्था की जा सकती है। दो तीन स्थानों पर व्यवस्था होने से भीड़ भी एक स्थान पर ज्यादा नहीं लगेगी। किसानों की फसल खराब नहीं होगी और लोगों को ताजी सस्ती सब्जी मिल सकेगी।