बीएसएफ जवान के कोरोना टेस्ट की रिपोर्ट आई निगेटिव, दिल्ली में हार्ट अटैक से हुई थी मौत

भिवानी. विद्या नगर निवासी कोरोना संदिग्ध बीएसएफ जवान की मौत कोरोना संक्रमण से नहीं बल्कि हार्ट अटैक से हुई थी। मंगलवार को जवान की कोरोना से संबंधित सैंपल रिपोर्ट निगेटिव मिली है। हालांकि एहतियात के तौर पर स्वास्थ्य विभाग की टीम ने सोमवार देर शाम को ही जवान के परिजनों व कालोनी निवासियों के स्वास्थ्य की जांच का अभियान शुरू कर दिया था।
सोमवार को स्वास्थ्य विभाग को सूचना मिली कि विद्यानगर निवासी बीएसएफ के जवान कुलदीप की दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में मौत हो गई है। जवान में कोरोना के लक्षण थे और रिपोर्ट आने शेष हैं। सूचना पर स्वास्थ्य विभाग की कोविड-19 टीम विद्यानगर स्थित जवान के घर पर पहुंची और परिवार के सभी सदस्यों के मौके पर रैपिड किट की मदद से सैंपल लेकर जांच की तो रिपोर्ट निगेटिव मिली थी। एहतियात के तौर पर मंगलवार को विभाग ने विद्यानगर में सर्वे अभियान चलाया। विभाग की पांच टीमों ने बीएसएफ जवान के घर के आसपास के 255 घरों में बच्चों से लेकर बुजुर्गों तक लगभग 1194 लोगों की थर्मल स्क्रीनिंग की।
अभियान के दौरान स्वास्थ्य विभाग की टीम सांसद धर्मबीर सिंह के निवास स्थान पर भी पहुंची और सांसद के अलावा परिजनों व अन्य सहित करीब 15 लोगों के स्वास्थ्य की जांच की। किसी में कोरोना के लक्षण नहीं मिले है। मंगलवार काे विभाग को सूचना मिली कि जवान की कोरोना रिपोर्ट निगेटिव आई और उसकी मौत हार्टअटैक से हुई है। सिविल सर्जन डॉ. जितेन्द्र कादयान ने बताया कि विद्या नगर निवासी बीएसएफ जवान दिल्ली सफदरजंग अस्पताल में भर्ती था। उपचार के दौरान उसकी मौत हो गई। मौत की सूचना स्वास्थ्य विभाग को मिली थी। सूचना पर स्वास्थ्य विभाग की टीम ने उसके घर विद्या नगर पहुंचकर परिवार के सभी सदस्यों के रैपिड किट से जांच की तो सभी की रिपोर्ट निगेटिव मिली थी।

विद्यानगर के 255 घरों में 1194 लोगों की स्क्रीनिंग

कोविड-19 के जिला कोऑर्डिनेटर डॉ. राजेश ने बताया कि जवान अपने घर 19 अप्रैल को आया था तथा 28 अप्रैल को वापस दिल्ली चला गया था। तीन मई को दोपहर बाद तबीयत खराब होने पर उसे दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में भर्ती करवाया था जहां चार मई को उसकी मौत हो गई थी। उन्होंने बताया कि बीएसएफ जवान की कोरोना रिपोर्ट निगेटिव आई है। फिर भी स्वास्थ्य विभाग ने एहतियात के तौर पर जवान की पत्नी व दो बच्चों के रैपिड टैस्ट करवाए, जिनकी रिपोर्ट निगेटिव प्राप्त हुई है। सिविल सर्जन ने बताया कि सावधानी के तौर पर अर्बन नोडल ऑफिसर डॉ. देवेन्द्र के नेतृत्व में अर्बन के स्टाफ की डयूटी लगाकर पांच टीमें बनाई गई। टीम में डॉ. मंजीत, फार्मासिस्ट संजीव, एएनएम रेखा, पुष्पा, हेमलता, दर्शना, अर्बन आशा, एरिया की आंगनवाड़ी वर्कर की डयूटी लगाई गई थी।