प्रवासी मजदूर को बेरोजगार होने पर रोजी-रोटी की दिक्कत बनी, इसलिए पैदल ही अपने घरों को कर रहे पलायन

  • प्रवासी मजदूरों को तेजली स्टेडियम में ठहराया, व्यवस्था बनने पर भेजा जाएगा

यमुनानगर. प्रवासी वर्करों का पैदल ही अपने घर के लिए जाना जारी है। मंगलवार को प्रशासन ने सैकड़ों ऐसे वर्करों को रोक लिया और उन्हें बसों में भरकर तेजली स्टेडियम में ठहराया गया है। यहां पर उनके स्वास्थ्य की जांच की जा रही है। वहीं उनकी पूरी डिटेल बताई जा रही है। यहां पर राधा स्वामी सत्संग व्यास संस्था की तरफ से उनके लिए खाने की व्यवस्था की गई है। करीब 500 प्रवासियों को यहां पर रोका गया है। इस दौरान प्रशासन उन्हें घर भेजने की तैयारी कर रहा है। एसडीएम दर्शन कुमार ने बताया कि किसी भी वर्कर को बिना परमिशन पैदल जाने की इजाजत नहीं है। ऐसे काफी वर्करों को प्रशासन ने रोका है और उन्हें तेजली स्टेडियम में ठहराया गया है। जब भी उन्हें यहां से भेजने की व्यवस्था बनेगी तो उन्हें बस या ट्रेन के माध्यम से भेजा जाएगा। प्रशासन की तरफ से स्टेडियम में स्टाफ लगाकर एक-एक वर्कर की डिटेल नोट की जा रही है। उधर वर्करों का कहना है कि वे अपने घर जाना चाहते हैं। क्योंकि बेरोजगार हो चुके हैं। ज्यादातर पंजाब से यूपी अपने घर जा रहे थे। उनका कहना है कि कुछ जगह तो उन्हें खेतों के रास्ते से आना पड़ा। उनका कहना है कि सरकार और प्रशासन जल्द से जल्द उनके यहां से घर जाने की व्यवस्था करें।
रजिस्ट्रेशन कराना जरूरी | सरकार ने प्रवासियों को उनके घर भेजने का फैसला लिया है। इसके लिए उन्हें ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन कराना होगा। इसके बाद प्रशासन मजदूरों की संख्या देखकर उसके हिसाब से ट्रेन या फिर बस की व्यवस्था करेगा और उन्हें भेजा जाएगा। फिलहाल बहुत से प्रवासी रजिस्ट्रेशन नहीं करा पाए हैं क्योंकि रजिस्ट्रेशन कराने में दिक्कत आ रही है। प्रवासियों का कहना है कि इसके लिए उनके पास एंड्रॉयड फोन नहीं है और न की रजिस्ट्रेशन करना आता है। इसलिए प्रशासन को चाहिए कि एक एक टीम एरिया भेजी जाए और वह रजिस्ट्रेशन करें।