बलियाला में पंजाब के रास्ते आए नांदेड़ साहिब के 7 श्रद्धालु, 1 बांट रहा था प्रसाद

  • घरों में किया क्वारेंटाइन, पंजाब से पैदल पहुंचे गांव, सभी के लिए सैंपल

रतिया. गांव बलियाला के सात लोग महाराष्ट्र के नांदेड़ साहिब से पंजाब के रास्ते सीधे गांव में आ गए। इन लोगों ने प्रशासन को सूचना तक नहीं दी। इसका पता तब चला जब सोमवार को एक श्रद्धालु गांव में प्रसाद का वितरण कर रहा था। ग्रामीणों ने मामले से प्रशासन को अवगत करवाया। पता चलने पर बीडीपीओ रमेश मिथरानी की टीम गांव में पहुंची अाैर प्रसाद का वितरण बंद करवाया।
स्वास्थ्य विभाग की टीम ने टेस्ट इंचार्ज डाॅ. भरत सिंह की टीम ने नांदेड़ से आए इन सभी लोगों के सैंपल लेकर जांच के लिए रोहतक पीजीआई भेज दिया है। श्रद्धालुओं में दो बच्चे भी शामिल है। प्राथमिक जांच पड़ताल व स्क्रीनिंग टेस्ट रिपोर्ट में प्रसाद वितरण करने वाला श्रद्धालु व अन्य स्वस्थ पाए गए हैं।
पंजाब के रास्ते सीधे गांव चले गए: बताया गया है कि मार्च माह में बलियाला से 7 श्रद्धालु नांदेड़ साहिब गए थे जिनमें दो बच्चे भी थे। लॉकडाउन के चलते वे वही फंस गये। तीन दिन पहले वे पंजाब रोडवेज की बस से नांदेड़ से पंजाब के मानसा में आए। वहां से हरियाणा के गांव पिलछियां केे रास्ते पैदल ही गांव में पहुंचे। बताया गया कि एक श्रद्धालु ने गांव में पहुंच कर वहां से लाए गये प्रसाद का वितरण शुरु कर दिया। गांव के लोगों ने जानकारी प्रशासन को दी। बीडीपीओ ने उसे घर में क्वारेंटाइन रहने की हिदायत दी।

1580 में से 1159 की रिपोर्ट निगेटिव

स्वास्थ्य विभाग की ओर से सोमवार को जिले भर से 145 नए सैंपल लिए गए हैं। अब तक जिले में 1580 लोगों के सैंपल लिए गए हैं। जिसमें से 416 की रिपोर्ट पेंडिंग है। 1159 रिपोर्ट निगेटिव आई हैं। 13 लोगों को नागरिक अस्पताल में भर्ती रखा हुआ है। कोरोना का प्रकोप शुरू होने के बाद से जिले में अब तक 7 हजार 4 सौ 43 लोग आए हैं।

7 श्रद्धालुओं को गांव में ही किया है क्वारेंटाइन: बीडीपीओ

बीडीपीओ रमेश मिथरानी कहा कि गांव बलियाला में नांदेड़ साहिब से आए श्रद्धालु द्वारा प्रसाद वितरण की सूचना मिली थी। मौके पर जाकर प्रसाद का वितरण रुकवाया गया है। श्रद्धालुओं को घरों में क्वारेंटाइन रहने की हिदायत दी है।

स्वास्थ्य विभाग की टीम ने गांव में जाकर सैंपल लिए: डॉ. भरत

नागरिक अस्पताल के फ्लू कक्ष के इंचार्ज डाॅ. भरत सिंह ने बताया कि टीम ने गांव में पहुंच कर उक्त सातों लोगों के सैंपल ले लिए है। वहीं उन्हें होम क्वारेंटाइन भी कर दिया गया है।