प्रदेशभर में ज्यादातर दुकानें खुली, सड़कों पर पहले से ज्यादा लोग, शराब के ठेके अभी बंद

  • प्रदेश के ग्रीन और ऑरेंज जोन में दुकानें खुलीं, रेड जोन में अभी भी बहुत से प्रतिबंध
  • बाजारों में दूसरे दिनों की अपेक्षा भीड़ बढ़ी, बाइक और आने-जाने वालों की संख्या बढ़ी

दैनिक भास्कर

May 04, 2020, 01:05 PM IST

पानीपत. हरियाणा में लॉकडाउन फेज-3 का पहला दिन है। प्रदेशभर में ग्रीन और ऑरेंज जोन में इंडस्ट्री के साथ-साथ बाजार खुल गए हैं। सोमवार को बाजारों में भीड़ बढ़ी हुई नजर आई। हालात ये हैं कि कुछ लोग मास्क लगाकर घूम रहे हैं लेकिन कुछ अभी भी बे-परवाह होकर सड़कों पर घूमते नजर आए। पुलिस पेट्रोलिंग कर रही है और लोगों को सोशल डिस्टेंसिंग व मास्क लगाकर घूमने के लिए जागरूक कर रही है। प्रदेशभर में शराब के ठेके नहीं खुले हैं। सरकार ने अभी इस पर कोई फैसला नहीं लिया है। हालांकि डिप्टी सीएम ने यह घोषणा जरूर कर दी है कि आने वाले दिनों में शराब पर कोरोना सेस लगाया जाएगा। इससे शराब महंगी हो जाएगी।

हरियाणा के अलग-अलग जिलों के हाल:

करनाल के मुख्य बाजार में सोमवार को आम दिनों की तरह लोग सड़कों पर नजर आए। कुछ लोगों ने मास्क लगा रखा था जबकि कुछ बगैर मास्क के घूम रहे थे।

करनालः यहां बाजार खुल गए हैं। बाजार में पहले ही दिन भीड़ बढ़ गई है। सड़कों पर चारों तरफ बाइक नजर आ रही हैं। शहर में बाजार सुबह 8 बजे से 2 बजे तक खुलेंगे। नाई की दुकानें व सैलून खोलने की अनुमति भी दी गई है, लेकिन प्रतिदिन रजिस्टर मेंटेन करना होगा। उसमें ग्राहक का नाम, पता व मोबाइल नंबर दर्ज करना होगा, लोकल ग्राहक को ही प्राथमिकता दें। उपायुक्त ने यह भी निर्देश दिए कि नाई व सैलून की दुकान पर ग्राहक का ही तौलिया प्रयोग किया जाए।

यमुनानगर में मजदूरों ने पुलिस की बाइक तोड़ दी। सैकड़ों की संख्या में मजदूर इकट्ठा होकर आ गए और घर जाने की जिद्द करने लगे। पुलिस समझाने पहुंची तो पथराव कर दिया।

यमुनानगरः यमुनानगर में बाजार खुल गए हैं। लेकिन सोमवार सुबह करीब 9.30 बजे जोड़िया नाके पर फैक्ट्रियों से सैकड़ों की संख्या में मजदूर बाहर आ गए। उन्होंने प्रशासन ने अपने घर वापस जाने की मांग की। जब उन्हें समझाने के लिए दो पुलिसकर्मी पहुंचे तो उन्होंने उनके साथ मारपीट की और बाइक भी तोड़ दी। इसके बाद डीएसपी प्रदीप राणा मौके पर पुहंचे और उन्होंने मजदूरों को वहां से खदेड़ा। अब हालात सामान्य हैं। यमुनानगर के अधिकतर बाजार खुल गए हैं। सड़कों पर पहले से ज्यादा लोग नजर आ रहे हैं।

सिरसा शहर में खुले हुए बाजार में खुद एसडीएम मुआयना करने पहुंचे। उन्होंने लोगों को सोशल डिस्टेंसिंग के लिए कहा।

सिरसाः सिरसा जिला ऑरेंज जोन में है। यहां सोमवार को लगभग सभी दुकानें और बाजार खुल गए। बाजार में भीड़ भी बढ़ गई है। पुलिस लगातार पेट्रोलिंग कर रही है। इसके साथ-साथ प्रशासनिक अधिकारी जगह जगह जाकर लोगों से सोशल डिस्टेंसिंग और मास्क लगाने की अपील कर रहे हैं। दुकानदारों को भी हिदायत दी जा रही है कि वे ग्राहकों को मास्क लगाने और सोशल डिस्टेंसिंग के लिए कहें। केंद्र और राज्य सरकार की गाइडलाइन के मुताबिक सभी दुकानें खुल गई हैं। हालांकि हलवाई, शराब के ठेके, स्कूल, कॉलेज आदि नहीं खुले हैं।

अम्बाला के बाजार में दुकानों के बाहर खड़े लोग जबकि दुकानें बंद हैं। कुछ दुकानदार सुबह दुकान खोलने पहुंचे थे लेकिन पुलिस ने उन्हें यह कहते हुए वापस भेज दिया कि अभी तक कोई आदेश नहीं आया है।

अम्बालाः अम्बाला में लॉकडाउन के तीसरे चरण के पहले दिन सड़कों पर तो काफी संख्या में लोग नजर आए लेकिन सुबह-सुबह दुकानें नहीं खुली। जो दुकानदार अपनी दुकान खोलने पहुंचा भी उसे पुलिस ने वापस भेज दिया। पुलिस का कहना था कि उन्हें अभी इस संबंध में कोई निर्देश नहीं हैं। केंद्र सरकार और राज्य सरकार द्वारा निर्देश जारी कर दिए जाने के बाद भी अम्बाला में निर्देश जारी नहीं किए गए। हालांकि अम्बाला ऑरेंज जोन में है। इससे दुकानदारों में असमंजस की स्थिति है।

रेवाड़ी के बाजार का दृश्य। जहां दुकानें खुली हुई हैं। इसके साथ-साथ सड़कों पर आने-जाने वालों की संख्या भी बढ़ गई है।

रेवाड़ीः रेवाड़ी हरियाणा के ग्रीन जोन में शामिल दो जिलों में से एक है। यहां लगभग सभी दुकानें खुल गई हैं। शराब के ठेके बंद हैं। यहां भीड़ की आशंका को देखते हुए जिला प्रशासन ने रोडवेज बस न चलाने का फैसला किया है। हालांकि टैक्सी चलेंगी। स्टेशनरी, राशन, नाई, डिपार्टमेंटल स्टोर आदि खुले हुए हैं। लोगों की संख्या भी बाजारों में बढ़ गई है। कुछ जागरूक हैं, जो मास्क लगाकर घूम रहे हैं लेकिन कुछ अभी भी बिना मास्क के घूम रहे हैं। रेवाड़ी में अभी तक कोई भी कोरोना का मामला सामने नहीं आया है।

हरियाणा सरकार ने अभी शराब के ठेके खोलने के आदेश जारी नहीं किए हैं। यह तस्वीर रेवाड़ी की है।

कैथलः कैथल जिला ऑरेंज जोन में आता है। यहां लॉकडाउन के तीसरे चरण का मिला-जुला असर है। सरकार के आदेश के बावजदू कुछ दुकानें खुली हैं, जबकि कुछ अभी भी बंद हैं। लोग पहले दिनों की अपेक्षा ज्यादा संख्या में सड़कों पर निकले हुए हैं।