हरियाणा में करीब सवा साल के लंबे इंतजार के बाद 2544 जेबीटी के तबादले, शिक्षकों को मिले मनचाहे स्कूल।

हरियाणा में करीब सवा साल के लंबे इंतजार के बाद 2544 जेबीटी के तबादले, शिक्षकों को मिले मनचाहे स्कूल।

 करीब सवा साल के लंबे इंतजार के बाद 2544 जूनियर बेसिक ट्रेंड (जेबीटी) शिक्षकों को मनचाहे स्कूलों में तबादला मिल गया है। पिछले साल 23 अगस्त को जारी तबादला आदेशों पर लगी रोक पंजाब एवं हरियाणा हाई कोर्ट ने हटा दी है। स्थानांतरित किए गए सभी शिक्षकों को मंगलवार तक नए जिलों में कार्यभार ग्रहण करने के निर्देश दिए गए हैं।

मौलिक शिक्षा निदेशक ने रविवार को 23 अगस्त 2019 के तबादला आदेश लागू करते हुए सभी जिला शिक्षा अधिकारियों को जेबीटी के कार्यभार ग्रहण की रिपोर्ट 17 नवंबर के बाद मुख्यालय को भेजने के निर्देश दिए हैं। मौलिक शिक्षा निदेशालय ने पिछले साल अगस्त में जेबीटी को स्थानांतरित करने का आदेश दिया था और जिलेे भी आवंटित कर दिए थे, लेकिन पंजाब एवं हरियाणा उच्च न्यायालय नेे इन आदेशों पर रोक लगा दी थी। सपना देवी और अन्य बनाम प्रदेश सरकार, धर्मेंद्र कुमार शर्मा बनाम प्रदेश सरकार व सुरेंद्र कुमार बनाम हरियाणा मंह फैसला आने पर अब तबादलों में कोई अड़चन नहीं रही है।


सपना देवी मामले में पंजाब एवं हरियाणा हाई कोर्ट ने विगत 14 अगस्त, धर्मेंद्र शर्मा मामले में 2 नवंबर और सुरेंद्र कुमार मामले में 12 नवंबर को अपना फैसला सुना दिया था। मौलिक शिक्षा निदेशालय के आदेशानुसार कार्यभार ग्रहण करने से पहले प्रत्येक जेबीटी से निम्नलिखित बिंदुओं पर एक शपथ पत्र लिया जाएगा।

यह देना होगा शपथ पत्र

पूरी सेवा के दौरान अपनी पसंद के जिले के बारे में नंबर एक की वरीयता प्राप्त नहीं की है। उन्हेंं कोई आपत्ति नहीं है, अगर उनकी वरिष्ठता खो जाती है और वह स्थानांतरित जिले की वरिष्ठता सूची में आखिर पर आते हैं। वह स्थानांतरण पालिसी के तहत वर्तमान स्थानांतरण से संतुष्ट हैं, चाहे यह पहली वरीयता या दूसरी वरीयता हो।