स्वास्थ्य विभाग का खुलासा, हरियाणा की नर्सें भ्रूण लिंग जांच में शामिल, उन्हें प्रति ग्राहक मिलते हैं 6 से 9 हजार रुपए तक

स्वास्थ्य विभाग का खुलासा, हरियाणा की नर्सें भ्रूण लिंग जांच में शामिल, उन्हें प्रति ग्राहक मिलते हैं 6 से 9 हजार रुपए तक

गिरफ्तार दलाल के माेबाइल ने खाेले कई राज
पंजाब के अहमदगढ़ थाने की पुलिस बाेली- जल्द ही सभी अाराेपी हाेंगे िगरफ्तार

भ्रूण लिंग जांच करने वाले अंतरराज्यीय गिराेह की पकड़ी गई महिला दलाल के माेबाइल ने गिराेह के संबंध में बड़ा खुुलासा किया है। हरियाणा और पंजाब के प्राइवेट अस्पतालाें की स्टाफ नर्सें भी भ्रूण लिंग जांच में संलिप्त हैं। एक महिला का नाम भी पुलिस जांच में सामने आया है, जाे अहमदगढ़ की रहने वाली है। महिला दलाल का माेबाइल, सोशल मीडिया ग्रुप से पुलिस अन्य सदस्याें तक भी पहुंचने का प्रयास करेगी। जांच में सामने आया कि ग्राहक देने पर स्टाफ नर्साें काे 6 से 9 हजार रुपए तक दिए जाते थे। वह दलाल से सिर्फ जांच की डीलिंग करा देती थी। जांच के तुरंत बाद स्टाफ नर्स के खाते में रुपए डाल दिए जाते थे। पुलिस ने जल्द गिराेह पर शिकंजा कसने की बात कही है।

हिसार की परिवार कल्याण की डिप्टी सीएमओ और पीएनडीटी की नाेडल अधिकारी डा. अनामिका बिश्नाेई और उनकी टीम ने पिछले गुरुवार काे पंजाब के संगरूर में छापामारी की ताे यहां वरना कार में माेबाइल आधारित पार्टेबल मशीन से लिंग जांच की जा रही थी। भ्रूण लिंग जांच का साैदा 25 हजार रुपए में तय किया गया। टीम ने महिला दलाल काे पकड़ लिया, लेकिन कार में जांच करने वाला आराेपी वार्ड बॉय फरार हाे गया। जांच में पता चला कि आराेपी गर्भवती काे कार में बैठाने के बाद कुछ देर तक घूमाते थे, ताकि किसी काे शक न हाे।

लड़की हाेने पर अबाॅर्शन कराने के बदले भी 15 हजार रुपए तक मांगे जाते थे। आराेपी महिला दलाल कवलजीत के खिलाफ पंजाब के अहमदगढ़ थाने में केस दर्ज किया गया था। सूत्राें के अनुसार दलाल के माेबाइल में 15 से अधिक और संदिग्ध नंबर मिले हैं। जिनकी जांच में पुलिस और स्वास्थय विभाग की टीम जुटी हुई हैं। अब टीम धंधे में लिप्ट स्टाफ नर्साें पर भी शिकंजा कसेगी। डिप्टी सीएमओ डा. अनामिका बिश्नाेई का कहना है कि भ्रूण लिंग जांच करने वालाें काे किसी भी कीमत पर नहीं बख्शा जाएगा।

जांच से पहले 10 मिनट तक लिया जाता है इंटरव्यू
पुलिस जांच में सामने आया है कि जिस महिला के भ्रूण की जांच की जाती है, उसका आराेपी डाॅक्टर गाड़ी में बैठाने के बाद करीब 10 मिनट तक इंटरव्यू लेता है। उससे नाम पते के अलावा परिवार व किसके माध्यम से उस तक पहुंचे आदि की जानकारी ली जाती है।