चंडीगढ़ में अस्पताल की सातवीं मंजिल से कूदी युवती, रोहतक से पिहोवा जाने के लिए बोलकर निकली थी चंडीगढ़

मृतका की पहचान रोहतक की रहने वाली 27 साल की अनु के रूप में हुई है। अस्पताल की दूसरी मंजिल पर बैठे दो लोगों पर गिरी, दोनों के पैर में चोट। दोनाें घायल अस्पताल में पहले से भर्ती दो मरीजों के अटेंडेंट थे और कुछ देर पहले ही बाहर आकर बैठे थे।

चंडीगढ़ में अस्पताल की सातवीं मंजिल से कूदी युवती, रोहतक से पिहोवा जाने के लिए बोलकर निकली थी चंडीगढ़
इसी अस्पताल की 7वीं मंजिल से लड़की ने कूदकर जान दी है।

जीएमसीएच 32 में सातवीं मंजिल से एक युवती कूद गई जिससे उसकी मौके पर ही मौत हो गई। मामले में सेक्टर 34 थाना पुलिस ने केस दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। मृतका की पहचान रोहतक की रहने वाली 27 साल की अनु के रूप में हुई है। पुलिस को अनु के पास से कोई सुसाइड नोट नहीं मिला है हालांकि प्राथमिक जांच में पुलिस इसे सुसाइड मान रही है। मिली जानकारी के मुताबिक अनु रोहतक में परिवार समेत रहती है।वह विदेश जाना चाहती थी जिसके लिए वह पिहोवा में एक इंस्टीट्यूट से आईलेट्स की कोचिंग ले रही थी। उसने कोचिंग लेनी अभी शुरू ही की थी।

ये घटना शनिवार सुबह की है जब अनु 32 अस्पताल में सी ब्लॉक बिल्डिंग में प्राइवेट वार्ड में पहुंची। सातवीं मंजिल पर जाकर उसने पुरानी माॅर्चरी की तरफ खिड़की से छलांग लगा दी। वह अस्पताल की दूसरी मंजिल पर बैठे दो लोगों पर गिरी। हादसे में नरेंद्र के पैर में चोट आई जबकि अशोक की टांग में फ्रैक्चर हो गया। इसके बाद लोग तीनों को उठाकर एमरजेंसी में ले गए जहां डॉक्टरों ने अनु को मृत घोषित कर दिया जबकि बाकी दो को इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती कर लिया। दोनाें घायल अस्पताल में पहले से भर्ती दो मरीजों के अटेंडेंट थे और कुछ देर पहले ही बाहर आकर बैठे थे।

घर बोला पिहोवा जा रही हूं

अनु घर से बोलकर निकली थी कि वह पिहोवा जा रही है। इसके बाद वह 32 अस्पताल पहुंच गई।अनु की मौत के बाद पुलिस ने उसके बैग की जांच की तो उसमें उसका पेन कार्ड, आधार कार्ड और मोबाइल फोन मिला। जिसके आधार पर उसकी पहचान कर घरवालों के साथ संपर्क साधा। इसके बाद घरवाले पहुंचे तो उन्होंने बताया कि अनु रोहतक से पिहोवा के लिए निकली थी लेकिन वह 32 कैसे पहुंच गई इसके बारे में किसी को कुछ नहीं मालूम। घरवालों ने अनु के किसी भी तरह से परेशान होने की बात भी नहीं बताई है। उनके मुताबिक वह ठीक थी उसे कोई परेशानी नहीं थी।

चार दिन पहले दिल्ली से लौटी थी

अनु और उसकी मां दिल्ली में उसकी बड़ी बहन के पास गए थे। उसका ऑपरेशन था। इसके बाद अनु वहां से वापिस आ गई। वह रोहतक रह रही थी।